Love

Many moons floated in the pool of eyes

Many suns eclipse my Canvas of life

‘WHY’ the question strangled me for years

The endless wait never left my side…

Enough! I said to myself

I tied ‘WHY’ along with all the sorrows

And dumped it into the deepest well

I’m happy; I have learnt to love myself!

©️ charu and potpourri of life.

आज कुछ नया गिनते हैं

दुख गिनने बैठो तो खत्म ही नहीं होते
शिकायतें भी अनगिनत हैं
चलो आज कुछ और गिनते हैं
दोस्ती के डब्बे में दोस्त गिनते हैं
अपने सर पर रखी दुआएं गिनते हैं
जिंदगी की गुल्लक में हंसी गिनते हैं
पेड़, तारे, बादल, तितलियाँ गिनते हैं
चलो आज कुछ नया गिनते हैं!


Life is a beautiful blessing make it more special with a heart filled with gratitude 


©charu gupta and potpourri of life.