मैं आज भी गूंगा बैठा हूं

तब भी किस्सा कुर्सी का था
आज भी कुर्सी का है चक्कर
तब भी हिन्दू मुस्लिम में देश बटा
आज भी हिन्दू मुस्लिम का मुद्दा है
मारा गया तब भी मैं था
आज भी मैं ही कत्ल होता हूँ
बटवारा ना तब मैंने था मांगा
ना आज ही मैं चाहता हूं बटना
यह कौन सी आज़ादी है
यह कैसे आए हैं अच्छे दिन
मैं तब भी मूक देखता रहा
मैं आज भी गूंगा बैठा हूँ

तुम करते रहो तय तारीख़ आज़ादी की
मुझे तब भी धर्म जात से जकड़ा था
मैं अब भी धर्म जात में बांधा जाता हूँ
प्यार, शांति, खुशहाली, हो रोज़ ईद और दिवाली
मेरा यह सपना तब भी टूट के बिखरा था
यह सपना आज भी तुमने कुचला है
भव्यता देश की मैं क्या जानू
मैं दो रोटी को भी तरसा हूँ
है व्यर्थ जगमगाते लाख दिए तुम्हारे
जब आग नहीं चूल्हे में मेरे
कैसे मानूं तुम्हें विश्वगुरु जयगान तुम्हारे गाउं
शिक्षा, रोज़गार जब तक ना हर घर में हो

तुम तय करते रहो तारीख आज़ादी की
कुछ पागल मस्ताने थे मां पर जो बलिदान हुए
आज उन बलिदानों को भी  तुम आकते  हो
मुझे गांधी और भगत सिंह में बांटते हो
सत्ता की सभा में तब भी मैं नीलाम हुआ
आज भी सत्ता की शतरंज का मोहरा हूं
मैं तो उस दिन जशन मनाऊंगा
पेट भरा हो, सर पर छत हो, न कलह हो
स्वच्छ हवा हो, निर्मल मन हो, स्वप्न सजा हो
नफ़रत की न फसल उगे, हरा केसरी न रंग बटे

©Charu Gupta and Potpourri of Life

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s